दिल्ली-एनसीआर में बारीश से तापमान गिरा, प्रदूषण के स्तर में भी आई कमी

पश्चिमी विक्षोभ के कारण गुरुवार को हिमाचल, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हुई। दिल्ली-हरियाणा में दिनभर बादल छाए रहे। शाम को बारिश शुरू हो गई। रेवाड़ी और करनाल में ओले भी गिरे। ठंडी हवा चली। दिन का पारा 5.5 डिग्री सेल्सियस कम हो गया। दिल्ली में हुई झमाझम बारिश ने 22 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। राजधानी में 33.5 मिमी बारिश रिकार्ड की गई।

 हिमाचल में 154 सड़कें बंद
हिमाचल के 6 जिलों शिमला, कुल्लू, चंबा, किन्नौर, लाहौल स्फीति और सिरमौर में रुक-रुककर बर्फबारी हुई। शिमला में शाम को रिज पर सीजन की पहली बर्फबारी हुई। प्रदेश में बर्फबारी से 154 सड़कें यातायात की आवाजाही के लिए पूरी तरह बंद हो गई।

आगे क्या: 14 दिसंबर से गहराएगी धुंध, तापमान और भी गिरेगा
शुक्रवार को भी बारिश के साथ कुछ इलाकों में ओले गिरने के आसार हैं। 14 को उत्तर हरियाणा में कुछ जगह बारिश हो सकती है। 14-15 से धुंध गहराएगी। दृश्यता काफी कम रह सकती है। पहाड़ों में हुई बर्फबारी का असर 2-3 दिन में प्रदेश में दिखेगा। रात का पारा 5 डिग्री तक कम हो सकता है।

बारिश फसलों के लिए फायदेमंद
कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि यह मौसम फसलों के लिए काफी फायदेमंद होगा। क्योंकि वर्तमान समय में सबसे अधिक गेहूं की फसल है और इसे ठंड की दरकार है। अन्य फसलों को भी इस बरसात या ठंड से फायदा मिलने के आसार हैं। ओले से फसलों को नुकसान होता है।

73 दिन में 20% अधिक बरसात
1 अक्टूबर से 12 दिसंबर तक 18.2 एमएम बरसात हुई है। इस अवधि में प्रदेश में 15.2 एमएम बारिश सामान्य मानी जाती है। यानी 20 फीसदी अधिक बारिश हुई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *